Health

Diebetes kya hai ghar baithe jane diebetes se bachne ke upay

DIABETES KYA HAI HINDI MEIN JANE

मौसम बदलने साथ ही हर बीमारी अपना रूप भी बदलती है। डायबिटीज एक आम बीमारी हो गई है लेकिन अब भी डायबिटीज के ज्यादातर मरीजों को ठंड में डायबिटीज से बचने के तरीके नहीं पता | इसी कारण है कि सर्दियों में मरीजों के लिए अपनी डायबिटीज को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है और उनकी बीमारी बढ़ती चली जाती है।
डायबिटीज,शुगर या मधुमेह लाइफस्टाइल संबंधी या वंशानुगत बीमारी है। जब पैंक्रियाज नामक ग्लैंड शरीर में इंसुलिन बनाना कम कर देता है या बंद कर देता है, तो यह बीमारी हो जाती है।

इंसुलिन ब्लड में ग्लूकोज को कंट्रोल करने में हेल्प करती है। डायबीटीज खास तौर से दो तरह की होती है।
पहली इंसुलिन आधारित डायबीटीज। इस प्रकार की इंसुलिन हॉर्मोन बनना पूरी तरह से बंद हो जाता है। ऐसे में शरीर में ग्लूकोज की बढ़ी हुई मात्रा को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन के इंजेक्शन की जरूरत भी पड़ जाती है।

इसके अलावा दूसरी है बिना इंसुलिन आधारित डायबीटीज। इसमें इंसुलिन कम मात्रा में बनता है या पैंक्रियाज सही से काम नहीं कर रहा होता है।
इस तरह की डायबीटीज ज्यादा तर वयस्कों में ही पाई जाती है और इंसुलिन आधारित डायबीटीज की तुलना में कम हानिकर होती है। डायबीटीज के 90 फीसदी मरीज इसी कैटिगरी में आते हैं।

डायबिटीज के लक्षण: (In Hindi)

# हर समय कमजोरी महसूस होना।

# चोट लगने पर जल्दी ठीक न होना।

# त्वचा के रोग होना।

# भूख पहले से बहुत ज्यादा लगना।

# आंखों की रोशनी लगातार कम होना।

# वजन बार-बार बढ़ना और कम होना।

# बार बार पेशाब आना |
#  अधिक प्यास लगना और पानी पीने के बाद भी गला सुखना |

# हाथ पैर में अकड़न और शरीर में झंझनाहट |

# चिड़चिड़ापन |

मधुमेह होने के प्रमुख कारण:

खान पान – सही खान पान का सेवन ना करने से भी यह बीमारी होने की आशंका रहती है. खाने में कार्बोहाइड्रेट व वसा वाले पदार्थो का अधिक सेवन करने से भी यह रोग हों जाता है !
मोटापा – अगर कोई व्यक्ति अधिक मोटा है तो उसे यह बीमारी होने की सम्भावना अधिक होती है. हालाँकि जरुरी नहीं की मोटापा होने के कारण सभी लोगो को यह बीमारी हों जाये. दुबले पतले लोगो को भी यह बीमारी हों जाती है अधिक दुबला होना भी बीमारी ही है तो दुबले लोग मोटे कैसे हो ये भी जान ले,

इसके अलावा अधिक सोने तथा सुबह देर से उठने, शारीरिक कार्य और Exercises न करने के कारण भी बीमारिया शरीर में घर कर लेती है तो जानिए घर बैठे कौन सी Exercises करनी चाहिए और यदि आप ऐसा नहीं करेंगे तो भी यह बीमारी हों जाती है !

मानसिक कारण – इस बीमारी के होने का प्रमुख कारण हमारा मानसिक कारण होता है. जो लोग अधिक तनाव, क्रोध, शोक, अनिद्रा, ईर्ष्या आदि में रहते हैं उन्हें भी यह रोग होने की सम्भावना अधिक रहती है !

डायबिटीज के घरेलू  इलाज के नुस्खे :

डायबिटीज के किसी भी लक्षण को अनदेखा न करे | अगर हम इसे नजर अंदाज करते है तो हम अपने जिंदगी से खिलवाड करने जैसी बात है |

इसके लिए तुरंत एक्शन ले या इलाज शुरू करें|

सिर्फ योग से डायबिटीज को निरन्तरं नहीं कर सकते, रोज व्यायाम के साथ दवा भी जरूरी है। डायबिटीज के मरीज को फ़ास्ट नहीं रखना चाहिए।

# शुगर फ्री मिठाइयां, आलू, चावल के से बचें। उनके सेवन से उतनी ही कैलोरी और शुगर बढ़ती है। इस तरह के गलत प्रचार के बहकावे में न आएं।
# सर्दियों में खाने का खास ख्याल रखें|

# फाइबर की एक संतुलित मात्रा भोजन में होनी चाहिए।

# बार  बार भारी भोजन करने की बजाय जब आप को भूक लगे तब हल्का खाना खाएं।

# जंक फूड बिल्कुल न खाएं !

# तुलसी के पत्ते एंटीऑक्सीडेंट और जरुरी तेल होते जो  इंसुलिन के लिए सहायक होते है |इसलिए तुलसी के पत्ते रोजाना खाली पेट ले |

# करेला डायबिटीज control  करने में काफी कारगर साबित हुआ है | यह (pancreatic insulin secretion) को बढ़ाने में मदद करता है और(insulin resistance) को कम करता है इसलिए करेला दोनों ही प्रकार की डायबिटीज  में फायेदमंद साबित हुई है |

# हर रोज खाली पेट करेले का जूस ले इसे लगातार 2 महीने तक करे और इसके साथ अपने खाने में करले की सब्जी भी शामिल करे  इसका लाभ जरूर होगा |

# आंवला में अच्छे मात्रा में vitamin c पाया जाता है और यह pancrease की functioning को भी ठीक रखता है | 3-4 आवला ले |इसका बीज अलग कर बचे आंवले को पीस ले | पीसने के बाद उसे छन्नी या सूती कपड़े ने चिपका के उसका जूस निकल ले | 2 चम्मच जूस को एक कप में मिला ले और रोज सुबह खाली पेट ले या आप इसको करेले के जूस के साथ भी इसका सेवन कर सकते है |

# अपने रोज के आहार में 1 महीने दालचीनी को  एक ग्राम दालचीनी का इस्तेमाल करे ,उसमे डायबिटीज को कम करने के साथ साथ आप का वजन को भी कम करने में मदद मिलेगी |

# सोया डायबिटीज को कम करने के लिये सोया बहुत असर कारक है. इसमें उपलभ्ध इसोफ्लावोन्‍स शुगर लेवल को कम करने में मदद करते हैं ओर शरीर को प्रोषण पहुंचाते हैं !

# रोजाना 10 से 15 बेलपत्र चबाएं. इससे मधुमेह नियंत्रित होता है।

# कुछ मेथी के दानों को किसी स्टील के बर्तन में भीगकर रख दें. इन भीगे हुए दानो का सेवन दिन में 3 से 4 बार करने से शुगर कम होने लगता है.

# रोजाना कम से कम 2-4 किलोमीटर तक पैदल चलना चाहिए !

# आहार में जौ और चने का इस्तेमाल अधिक करना चाहिए !

apko is post mein Diebetes ke Lakshan, Diebetes ka ilaaj, Diebetes ke karan toh pata chal hi gaye honge iske alava isi post mein apko  Diebetes ki Dava, Diebetes ka gharelu upay, Diebetes kya hai in sabke bare mein bhi janne ko mila hoga toh is post ko apne friends ke sath bhi share karo aur unhe bhi is diebetes se bachao aur kuch bhi sawal ho is post se related toh aap use comment box mein jarur puche.

इन्हे भी देखो 

About the author

admin

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status